वसंत बहार – कविता Spring- poetry

😀

rekhasahay

“Faith is the bird that feels the light and sings when the dawn is still dark.”
― Rabindranath Tagore

सारे पत्ते पीले पङ,

झङ गये,  मृत सूना सा,

खङा रह गया पेङ।

पतझङ ने ङरा दिया।

ऐसे हीं हम दुखों से ,

ङर जाते हैं।

यह तो खुशियों के आने से पहले की तैयारी है।

पतझङ के बाद  फूलों से भरे वसंत  बहार जैसा।

Image courtesy internet.

View original post

Advertisements

One thought on “वसंत बहार – कविता Spring- poetry

  1. Thanks for sharing my post.

    Liked by 1 person

Comments are closed.